कद्दू (Pumpkin) की खेती: समस्याएँ और समाधान

pumpkin
1+

कद्दू (Pumpkin) किसान के कम खर्चे में अच्छा मुनाफा देने वाली फसल मानी जाती है. आम जानता द्वारा संभवतः आलू के बाद सबसे ज्यादा पसंद की जाने वाली सब्जी है. भाव और स्वाद दोनों में इसकी बराबरी नहीं. बारिश के समय जब अन्य सब्जियों के भाव असमान पर होते हैं, तब कद्दू लोगों को राहत देता है. आइये कद्दू की खेती में आने वाली प्रमुख समस्याओं के विषय में जानते हैं.

कद्दू (Pumpkin) की खेती की प्रमुख  समस्याएँ और समाधान

डाउनी मिल्ड्यू फंगस

downy mildew fungus on pumpkin
कद्दू में डाउनी मिल्ड्यू फंगस

कद्दू में डाउनी मिल्ड्यू फंगस का प्रकोप शुरुआती अवस्था से ही शुरू हो सकता है. पत्ते असमय पीले पड़ते हैं और भुरभुरे हो कर सूख जाते है. यह सामान्यतः पत्तों के किनारे से शुरू होता है. पर पत्ते के बीच हल्के पीले रंग के चकत्तों के रूप में भी शुरू हो सकता है. भूमि में लाभदायक जैविक सक्रियता बढ़ा कर इस बीमारी का फैलाव रोका जा सकता है.

गमी ब्लाइट

gummy blight of pumpkin
कद्दू की गमी ब्लाइट

कद्दू की गमी ब्लाइट भी एक फंगस जनित रोग है. यह फंगस पिछले सालों के फसल अवशेष, मिट्टी, बीज आदि के माध्यम से फैलता है.

गमी ब्लाइट का प्रकोप बहुत विनाशकारी होता है. सही समय पर इसका नियंत्रण जरुरी होता है.

जमीन में अच्छी मात्रा में कम्पोस्ट और मित्र सूक्ष्म जीवों की उपस्थिति इस रोग का सामना करने के अच्छे विकल्प हैं.

फल मक्खी यानी Fruit Fly

फल मक्खी यानी Fruit Fly कद्दू की फसल को खासा नुकसान पहुंचाती हैं. ये छोटे फलों पर अपने ओवी पोजिटर से घाव बना कर अंडे डे देती हैं जिससे निकले मैगट घाव को और गहरा करते हैं. इस घाव में पानी लगने पर मौकापरस्त सूक्ष्म जीव (जो कि हवा, पानी, मिट्टी अदि में होते हैं) इस घाव में सडन का कारण बनते हैं और फल बेचने लायक नहीं बचता. फल मक्खियाँ स्टोर किये हुए कद्दू को भी नुकसान पहुंचाती हैं.

फल मक्खी का नियंत्रण करने के लिए घातक रसायनों का प्रयोग नहीं करना चाहिए. फल मक्खी के नियंत्रण हेतु फेरोमोन ट्रैप सबसे अच्छा विकल्प हैं. इस चित्र में दिख रही फल मक्खियाँ फेरोमोन ट्रैप लगा कर मारी गई हैं.

fruit fly scar and eggs on pumpkin fruit
शुरुआती अवस्था के फल में फल मक्खी द्वारा घाव बना कर दिए गए अंडे
adult fruit flies laying eggs on mature pumpkin fruit
वयस्क फल मक्खियाँ पके हुए कद्दू पर अंडे देती हुई

कद्दू के मित्र कीट

eggs of green lacewing
कद्दू के फूल पर हरे लेसविंग के अंडे. ये अंडे एक डंडीनुमा संरचना से जुड़े रहते हैं ताकि लेडी बीटल से बच सकें
green lacewing munching on leaf minor pupa
किसान मित्र हरा लेसविंग, लीफ़ माइनर के प्यूपा को खाता हुआ

हरा लेसविंग और लेडी बीटल किसानों का मित्र कीट है. अगर फसल में हानिकारक रसायन नहीं छिडके जाते तो ये कद्दू के पौधों पर अपने अंडे देते हैं जिनसे निकले लार्वा हानिकारक कीटों को चट कर जाते हैं.

lady beetle on pumpkin leaf
डाउनी से ग्रसित कद्दू की पत्ती पर बैठा हुआ किसान मित्र कीट लेडी बीटल

फल गलन

कद्दू में फल गलन का कारण phytopthora नाम का फंगस है. यह नमी और उमस वाले मौसम में फलों, पत्ते, तने आदि को अपना निशाना बनाता है.

इससे संक्रमण होने के बाद फल का बचना लगभग असंभव होता है.

इस  फंगस को नियंत्रित करने के लिए भूमि में लाभदायक जैविक सक्रियता बढ़ाना एक अच्छा विकल्प है.

संतुलित पोषण और मित्र सूक्ष्म जीवों के साथ उगाई हुई कद्दू की फ़सल

कद्दू की अच्छी फ़सल के लिए जमीन में जीवांश की अच्छी मात्रा बहुत जरुरी है. अच्छा कम्पोस्ट भूमि में जैविक सक्रियता तो बढ़ाता ही है साथ ही पोषक तत्वों की उपलब्धता बनाये रखता है.

लेखक परिचय:

Pushpendra Awadhiya | Bacter | प्रकृति अनुकूल खेती|

डॉ. पुष्पेन्द्र अवधिया (Ph.D. लाइफ साइंस, M.Sc. इंडस्ट्रियल माइक्रोबायोलॉजी)

विषय रूचिसूक्ष्मजीव विज्ञान, कोशिका विज्ञान, जैव रसायन और प्रकृति अनुकूल टिकाऊ कृषि विधियां

कृषि में उन्नति के लिए सही विधियों की जानकारी उतनी ही जरुरी है जितना उन विधियों के पीछे के विज्ञान को समझने की है. ज्ञान-विज्ञान आधारित कृषि ही पर्यावरण में हो रहे बदलावों को सह पाने में सक्षम होती है और कम से कम खर्च में उच्च गुणवत्ता कि अधिकतम उत्पादकता दे सकती है. खेत का पर्यावरण सुधरेगा तो खेती लंबे समय तक चल पायेगी. आइये सब की भलाई के लिए विज्ञान और प्रकृति अनुकूलता की राह पर चलें.
किसान भाई कृषि सम्बन्धी समस्याओं के समाधान हेतु Whatsapp-7987051207 पर विवरण साझा कर सकते हैं.

bacter
join telegram group